FIR दर्ज होते ही कांग्रेस के नेताओं को सताने लगा डर, प्रदेश अध्यक्ष ने दी सफाई

पटना. शनिवार को राजद (RJD) द्वारा बुलाए गए बिहार बंद के दौरान हुए तोड़फोड़ और गुंडागर्दी को लेकर पटना पुलिस (Patna Police) सख्त है. पटना पुलिस ने प्रतिबंधित क्षेत्र में बिना अनुमति के बंद बुलाने और तोड़फोड़ में शामिल होने को लेकर नेताओं पर एफआईआर (FIR) दर्ज कर लिया है. जिन नेताओं पर एफआईआर दर्ज हुआ है उनमें तेजस्वी यादव (Tejasvi Yadav), मदन मोहन झा, उपेंद्र कुशवाहा सहित कई बड़े नेताओं के नाम शामिल हैं. इन नेताओं पर पटना पुलिस ने फिलहाल एफआईआर दर्ज कर लिया है और आगे की कर्रवाई कर रही है लेकिन पुलिस के इस रवैये से कई नेताओं के पसीने छूट रहे हैं.

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष की सफाई

बिहार बंद के दौरान पटना के डाकबंगला चौराहे पर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा अपने लाव लश्कर के साथ प्रदर्शन करने पहुंचे थे. इस दौरान भारी संख्या में कांग्रेस के कार्यकर्ता भी उनके साथ थे.  इसी मामले को लेकर मदन मोहन झा और शकील अहमद खां सहित कई और कांग्रेस नेताओं पर पटना पुलिस ने एफआईआर दर्ज किया है. अब मदन मोहन झा कह रहे हैं कि वो शांतिपूर्ण ढ़ंग से विरोध दर्ज करा रहे थे फिर भी प्रशासन ने उन पर एफआईआर दर्ज कर दिया है.

क्यों हुआ कांग्रेस नेताओं पर केस दर्ज ?

दरअसल पटना के डाकबंगला चौराहे को पटना उच्च न्यायालय ने किसी तरह के विरोध प्रदर्शन के लिए प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित किया है लेकिन बिहार बंद के दौरान सभी पार्टीयों के नेता ने इसी चौराहे पर पहुंचकर प्रदर्शन किया था जिसमें कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा सहित दूसरे और भी नेता थे. ये नेता सिर्फ डाकबंगला चौराहे पर पहुंचे ही नहीं बल्कि वहां बीच सड़क पर धरने पर बैठ गए और घंटो वहां जमे रहे. इसी वजह से इन नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया गया है.

कांग्रेस नेता की गिरफ्तारी का आदेश

कहने को राजद के बंद के आहवान पर कांग्रेस ने राजनीतिक प्रदर्शन करने की बात कही थी लेकिन बंद के दौरान पार्टी के नेता से लेकर कार्यकर्ता गुंडागर्दी से भी बाज नहीं आए. कांग्रेस नेता आशुतोष शर्मा ने तो हद कर दी. आशुतोष ने सरेआम मीडियाकर्मीयों से बदसलूकी की बल्कि पार्टी कार्यकर्ताओं को उनकी पिटाई करने के लिए भी उकसाया लेकिन आशुतोष शर्मा की यह हरकत उन पर भारी पड़ती दिख रही है. एक नेशनल चैनल के पत्रकार प्रकाश सिंह के खिलाफ ने अज्ञात असामाजिक तत्वों पर जो केस दर्ज करवाया है उनकी पहचान पटना पुलिस ने आशुतोष शर्मा और उसके साथियों के रुप में की है. पटना के सीटि एसपी विनय तिवारी ने बताया है कि आशुतोष शर्मा और उसके साथियों की पहचान वीडियो और सीसीटीवी फुटेज से कर ली गई है और सभी की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी चल रही है.

loading...

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *