चंद्रयान-2: के सिवन का बड़ा बयान, बोले- अब दुनिया तैयार हो जाए क्योंकि हम बहुत जल्द…

विक्रम लैंडर से अभी तक चंद्रमा पर संपर्क नहीं किया गया है, लेकिन भारत का चंद्रयान -2 ऑर्बिटर अपने मिशन में लगा हुआ है। महत्वपूर्ण बात यह है कि भारत के दूसरे चंद्रमा मिशन की यह कक्षा हमेशा अंधेरे में चंद्रमा के क्षेत्रों की तस्वीरें भेजेगा जहां सूरज की रोशनी कभी नहीं गिरती। यह पूरी दुनिया के लिए नई जानकारी होगी। वैज्ञानिकों का कहना है कि एक दशक पहले भेजा गया भारत का पहला चंद्रयान अपने प्रदर्शन में सुधार कर रहा है।

Third party image reference

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के पूर्व अध्यक्ष ए एस किरण कुमार ने कहा, “हम चंद्रयान -1 की तुलना में बहुत बेहतर परिणाम की उम्मीद कर रहे हैं क्योंकि हम हमेशा माइक्रोवेव दोहरे आवृत्ति सेंसर की मदद से चंद्रमा के अंधेरे क्षेत्रों में डूबे हुए हैं। हम मैपिंग भी कर सकेंगे। ‘उन्होंने कहा कि ऑर्बिटर में बड़ी स्पेक्ट्रल रेंज के बहुत मजबूत कैमरे हैं।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने बताया है कि ऑर्बिटर को पहले से ही चंद्रमा की कक्षा में रखा गया है और इससे चंद्रमा की विकासवादी यात्रा, सतह की संरचना, खनिजों और पानी की उपलब्धता, आदि के बारे में हमारी समझ को बेहतर बनाने में मदद मिलेगी। समय के दौरान यह चंद्रमा के रहस्यों को प्रकट करने में मदद करेगा। वहीं के सिवन ने भी कहा है कि अब दुनिया तैयार हो जाए क्योंकि हम चंद्रमा के बारे में ऐसी जानकारी देने वाले है जो आज तक दुनिया के लिए रहस्य बना हुआ था।

loading...

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *